राजस्थान के रणथंभौर में हैं घूमने की कई बेहतरीन जगह

रणथंभोर राजस्थान की राजधानी जयपुर के समीप बसे सवाई माधोपुर के करीब है। विंध्य के पठार और अरावली पहाड़ियों के नजदीक उत्तर में बनास नदी और दक्षिण में चंबल नदी से गिरा हुआ जंगल है। पहले इस जंगल में बहुत ज्यादा बाघ हुआ करते थे।

author-image
Jagganath Mondal
New Update
rajasthan

स्टाफ रिपोर्टर, एएनएम न्यूज़ : गर्मियों में फैमिली या दोस्तों के साथ घूमने के लिए ऐसी किसी जगह की तलाश कर रहे हैं। जहां जाने के लिए ज्यादा मशक्कत भी न करनी पड़ी और जो मौज-मस्ती के हिसाब से भी बेहतरीन हो, तो रणथंभौर का बना सकते हैं प्लान। रणथंभोर राजस्थान की राजधानी जयपुर के समीप बसे सवाई माधोपुर के करीब है। विंध्य के पठार और अरावली पहाड़ियों के नजदीक उत्तर में बनास नदी और दक्षिण में चंबल नदी से गिरा हुआ जंगल है। पहले इस जंगल में बहुत ज्यादा बाघ हुआ करते थे। राजा-महाराजा यहां उनका शिकार करने आया करते थे। बाद में धीरे धीरे बाघों की घटती संख्या की वजह से इसे अभ्यारण्य घोषित कर दिया गया। ऐसा माना जाता है कि रॉयल बंगाल टाइगर यहां का विशेष आकर्षण है। यह भारत ही नहीं विदेशी सैलानियों के लिए एक आकर्षण का केंद्र है।

रणथंभौर राजस्थान में घूमने लायक कुछ स्थान - रणथंभौर किला, त्रिनेत्र गणेश मंदिर, कचिदा घाटी, जोगी महल।

कैसे जाएं?

दिल्ली से जयपुर तक हवाई जहाज से पहुंचा जा सकता है और वहां से गाड़ी या ट्रेन से सवाई माधोपुर जा सकते हैं। यह जयपुर से 180 किलोमीटर की दूरी पर है। ट्रेन से आने के लिए सवाई माधोपुर स्टेशन उतरना होता है, जहां से रणथंभौर सिर्फ 10 किलोमीटर की दूरी पर है। 

कब जाएं?

गर्मियों में अप्रैल से जून जाने के लिए एकदम बेस्ट है। मानसून में यहां के कई हिस्से सुरक्षा के चलते बंद कर दिए जाते हैं।